श्रीलंका – तीसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन लंच के बाद भारत की पारी 487 रन पर खत्म हुई। पहले दिन के स्कोर छह विकेट के नुकसान पर 329 रनों से आगे खेलने उतरी टीम इंडिया को जल्द ही ऋद्धिमान साहा(16) के रूप में दिन का पहला झटका लगा। 62 रनों की साझेदारी देने के बाद कुलदीप यादव(26) भी पवेलियन लौट गए। 20 रनों की साझेदारी करने के बाद मोहम्मद शमी भी पवेलियन लौट गए। भारत ऑल आउट होने के कगार पर खड़ी थी, लेकिन सामने थे हार्दिक पांड्या। जिन्होंने तूफानी शतक लगा कर भारत को एक बार फिर बड़े स्कोर की ओर पहुंचा दिया है। पांड्या 108 रन बनाकर अंतिम विकेट के रूप में आउट हुए।
अंतिम विकेट के साथ शतक की ओर बढ़ रहे पांड्या ने भारत के लिए एक नया रिकॉर्ड बनाया। उन्होंने श्रीलंका के गेंदबाज पुष्पकुमार के ओवर में 26 रन बनाए जो भारतीय टेस्ट इतिहास में एक ओवर में बनाया गया सबसे बड़ा स्कोर है। इससे पहले 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ कपिल देव ने 24 रन बनाए थे। कपिल ने लगातार चार छक्के लगाकर भारत का फोलोऑन बचाया था।पारी का 116 ओवर लेकर आए पुष्पकुमार का स्वागत चौके के साथ किया। अगली गेंद पर उन्होंने फिर से चौका लगाया। बड़े शॉट के लिए तैयार पांड्या ने अगली तीन गेंद पर तीन जोरदार छक्के लगाकर ओवर से कुल 26 रन बनाए। पांड्या के बल्ले से निकले तीन लगातार छक्के ने उन्हें एक नए मुकाम पर पहुंचा दिया। पांड्या भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में लगातार तीन छक्के लगाने वाले तीसरे बल्लेबाज भी बन गए। उनसे पहले कपिल देव और महेन्द्र सिंह धोनी ने तीन लगातार गेदं पर छक्के लगाए थे।

0

LEAVE A REPLY