यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भले ही ताज महल का दौरा कर इसे लेकर जारी विवाद को खत्म करने की कोशिश की हो, लेकिन वह ऐसा करने में असफल रहे। इस बार राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की इतिहास विंग ने मांग की है कि ताज महल में पढ़ी जाने वाली नमाज बंद की जाए।

उन्होंने कहा है कि अगर प्रशासन यह नहीं कर सकता तो फिर उन्हें भी ताज महल में शिव चालीसा पढ़ने की इजाजत मिले। संघ के इस संघटन के सचिव डॉ. बालमुकुंद पांडे ने कहा है कि ताज महल राष्ट्रीय धरोहर है और एक विशेष धर्म के लोगों को इसका उपयोग क्यों करने दिया जा रहा है।
अगर परिसर में नमाज पढ़ी जा सकती है, तो वहां शिव चालीसा की भी अनुमति दी जानी चाहिए। बता दें कि विवाद शुरू होने के बाद हाल ही में हिंदू संगठन के कुछ लोग ताज महल में शिव चालीसा का पाठ करने पहुंचे थे, जिन्हें पुलिस ने वहां से हटा दिया था। संगठनों का दावा है कि ताज महल की जगह पहले हिंदू मंदिर था जिसे हिंदू राजा ने बनवाया था।

0

LEAVE A REPLY