झांसी: झांसी शहर मे अन्ना जानवरो से नागरिक तंग आ चुके हैं लेकिन जिम्मेदार विभाग उदासीन बना हुआ है। अक्सर अन्ना सांड़ सडक पर तांडव मचाते है जिसमें कुछ दिन पहले एक रेलवे कर्मी की मौत के बाद लोगों में नाराजगी देखी जा रही है। अन्ना जानवरों से छुटकारा दिलाने के लिए सूबे के मुखिया भले ही लाख दाबे कर रहे हों। लेकिन उन्कें आदेशों पर अम्ल करने वाला विभाग कान में रुई और आंखों पर पट्टी बांध कर बैठा है। उसे ना तो नगर की समस्याएं दिखाई देती है और ना ही लोगों का दर्द। बीती 5 फरवरी की रात जब मुख्य सड़क पर अन्ना साड़ों ने जो तांडव मचाया उसका शिकार अपनी ड्यूटी पर जा रहा एक रेलवे कर्मी हो गया। रेलवे विभाग के चीफ टिकट इंस्पेक्टर नीरज गर्ग जब अपनी रात की ड्यूटी के लिए जा रहे थे तभी पीछे से दो सांड़ों ने उनपर हमला कर दिया। नीरज को सर में चोट लगी और वह स्कूटी के साथ सड़क पर जा गिरे । गभीर अवस्था में उन्हें उपचार के लिए उन्हे अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। यह सारी घटना वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। जिसके बाद आम लोगों में नगर निगम प्रशासन के खिलाफ गुस्सा देखने को मिल रहा है। इसी क्रम में कुछ समाजसेवियों ने एसपी सिटी को एक ज्ञापन देकर नगर निगम के अधिकारियों पर कार्यवाही की मांग की है।

रिपोर्ट – मनीष अली

 

 

0

LEAVE A REPLY