झांसी : बहुचर्चित सर्राफा व्यापारी अजय वर्मा हत्याकांड के मुख्य आरोपी लकारा निवासी सरदार सिंह गुर्जर, मानसिंह गुर्जर, भरत गुर्जर, रावराजा गुर्जर, भोला गुर्जर आदि को जिला सत्र-न्यायालय ने साल 2008 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, जिसके विरुद्ध आरोपियो ने माननीय उच्च- न्यायालय हाईकोर्ट में अपील की थी। आज इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस अपील को खारिज करते हुए पांचो आरोपियों को कठोर आजीवन कारावास की सजा बरकरार रखी हैं।
गौरतलब है कि साल 2012 में सरदार सिंह गुर्जर पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था, और फरार रहते हुए उसने कई अपहरण और जघन्न अपराधों को अंजाम दिया था। मृतक व्यापारी अजय कुमार के भाई संजय वर्मा ने सरदार सिंह गुर्जर व अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए हाईकोर्ट में रिट दायर की थी, जिसे न्यायालय हाइकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए सरदार गुर्जर पर 2 लाख 25 हजार रु. का ईनाम घोषित किया था एवं ग्रह सचिव उ0प्र0 एवं डी.जी.पी सहित जिले के समस्त पुलिस आला आधिकारियों को कोर्ट में तलब कर उसकी गिरफ्तारी के आदेश दिए थे, तब कही सरदार गुर्जर पाँच साल बाद गिरफ्तार हुआ था।

रिपोर्ट- मनीष अली

2+

LEAVE A REPLY