महोबा में टॉप 10 बिजली बकायेदारों की सूची में शामिल होकर 10 सरकारी विभागों ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। बिजली विभाग ने लाखों रुपये के इन बकायदारों पर कार्यवाहीं के संकेत दिए है। अपनो पे करम, गैरो पर सितम, यह गीत महोबा के बिजली विभाग पर सटीक बैठता है। यह बात हम नही बल्कि बिजली विभाग में तैनात अधिशाषी अभियंता शैलेन्द्र कुमार धीरानन्द ने खुद बयाँ कर दी। उनका कहना है कि घरेलू बिजली कनेक्शन उपभोगताओ का 10 हजार रुपये से अधिक बिल बकाया होने पर तत्काल विद्युत कनेक्शन काटने के निर्देश दिए गए हैं। तो वही जिले के टॉप 10 सरकारी विभागों पर करोड़ो के बिल बकाया होने के बाबजूद भी कनेक्शन काटने की हिम्मत विभाग नहीं जुटा पा रहा। आखिर क्या वजह है कि विद्युत लाखों के बकाएदारों पर सिर्फ कार्यवाहीं करने की मौखिक बात कर रहा है जबकि आम आदमी पर दस हजार तक के बकाये पर तुरंत कार्यवाही कर दी जाती है! जिसमें विभाग दोहरा चरित्र साफ नज़र आता है। महोबा में बिजली विभाग ने घरेलु उपभोक्ताओं का उत्तपीड़न और शोषण का खाका तैयार कर लिया है। वहीं विभाग डरते डरते सरकारी महकमों से वसूली की बात कह रहा है। मगर कनेक्शन काटने के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति हो रही है। इन बिजली विभाग के कर्जदार सरकारी विभागों के जिम्मेदारों से बात करने की कोशिश की गई तो तमाम बकायेदार कैमरे के सामने कुछ भी कहने से बचते नजर आये, वहीं जिला विद्यालय निरीक्षक ने बताया कि हमारे विभाग का 8 लाख 56 हजार का बिल बकाया है। जिसकी डिमांड शासन को भेजी गयी है। वहीँ आईटीआई के प्रिंसिपल राकेश बताते है कि विद्युत विभाग का बकाया जल्द दिए जाने के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा गया है।

रिपोर्ट – महोबा से अखिलेश सोनी के साथ इमामी खान

 

0

LEAVE A REPLY