झाँसी: अगर कोई भी कार्य कढ़ी मेहनत से किया जाये तो कोई भी आपको सफल होने से नही रोक सकता, कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है वरिष्ठ कलाकार सुन्दर लिखार के बेटे अभिषेक लिखार ने। अभिषेक इंटरमीडिएट की परीक्षा में 94% लाकर जिले में नम्बर वन टॉपर रहे तो वहीं उत्तर प्रदेश में टॉप-10 में शामिल हुये। जिन्हें यूपी के सीएम योगी ने सम्मानित किया।
पेश है अभिषेक लिखार के साथ हुई बुन्देलखंड न्यूज की एक खास मुलाकात:

1: आपने जिले में ही नहीं पूरे यूपी में टॉप किया है तो आपको कैसा लग रहा है?
जब मुझे यह पता चला कि मैंने जिले में ही पूरे यूपी में टॉप किया है तो मेरी खुशी का ठिकाना न रहा, रिश्तेदार व दोस्तों के लगातार बधाई सन्देश आते रहे। मुझे इस बात की खुशी है कि मेरी इस सफलता से मेरे माता-पिता का भी नाम रोशन हुआ है, जो कि हर बच्चा चाहता है।

2: किस प्रकार आपने परीक्षा की तैयारी की सेल्फ स्टडी या कोचिंग?
कोचिंग के अलावा सेल्फ स्टडी भी काफी जरूरी होती है, जब तक आप सेल्फ स्टडी नहीं करोगे तो आप सफलता हासिल नहीं कर सकते हैं। कोचिंग के साथ-साथ सेल्फ स्टडी पर भी काफी ध्यान दिया। परीक्षा के समय उन्होने लगातार कई घंटों तक बीच में ब्रेक लेकर पढ़ाई की।

3: इस सफलता का श्रेय आप किसको देना चाहते हैं?
इस सफलता का श्रेय मैं अपने माता-पिता व गुरूजनों को देना चाहता हूँ, जिन्होंने मेरी इस सफलता के लिये काफी मेहनत की। माँ ने इनकी बहुत सहायता की, बीच-बीच में ब्रेक देकर खाने-पीने पर भी जोर दिया।

4: जब यूपी के सीएम योगी ने किया सम्मानित तो आपको कैसा लगा?
सीएम योगी से सम्मान पाकर मुझे इतनी खुशी हुई कि मैं उसे बयां ही नहीं कर सकता, उन्होंने मुझे लखनऊ आमन्त्रित कर सम्मान समारोह में एक लाख का चैक व प्रशस्ती पत्र देकर सम्मानित किया। इस सम्मान से मेरे माता-पिता का बहुत खुशी हुई। सीएम ने कहा कि इसी तरह से मेहनत करते रहो, ऑल दि बेस्ट।

5: आगे आपका फ्यूचर प्लान क्या है, क्या करना चाहते हैं?
अब मैथ से बी.एस.सी. करूँगा व उसके साथ-साथ एस.एस.सी की तैयारी पूरी मेहनत से करूँगा

अभिषेक के पिता ‘सुन्दर लिखार’ एक वरिष्ठ कलाकार हैं जो काफी सीरियल व फिल्म्स में काम कर चुके हैं, वह कहते हैं कि अभिषेक शुरू से ही पढ़ाई में होशियार था, मुझे उसकी पढ़ाई के प्रति इतनी मेहनत देखकर ये लगता था कि वह एक दिन मेरा नाम रोशन जरूर करेगा और आज वह दिन आ ही गया, जिसका मुझे इन्तजार था। इसके लिये उसने पूरे वर्ष कठिन परिश्रम किया जिसका यह नतीजा है केवल परीक्षा के समय ही मेहनत करने से काम नहीं चलता है।

अभिषेक की इस उपलब्धि पर ‘न्यूज बुन्देलखंड’ परिवार उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

रिपोर्ट – शिवम् यादव

1+

Users who have LIKED this post:

  • avatar

LEAVE A REPLY