मऊरानीपुर झांसी- मऊरानीपुर नगर एवं क्षेत्र में अवैध बालू का खनन रुकने का नाम नहीं ले रहा है। सुबह से देर रात्रि तक अवैध बालू से भरे ट्रैक्टर सड़कों पर फर्राटा मारते हुए देखे जा सकते हैं। अवैध बालू का खनन करने वालों को ऐसा लगता है जैसे प्रशासन का कोई भी भय ना हो या फिर अवैध खनन करने वालों के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बहुत ही मधुर संबंध हो। जब कभी अवैध खनन की शिकायतें वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंच जाती हैं तो कभी कभार एक या दो बालू के ट्रैक्टर को पकड़कर स्थानीय प्रशासन अवैध खनन पर अंकुश लगाने की बात करने लगता है। जबकि अवैध खनन करने वालों के हौसले इतने बुलंद है कि वह प्रशासन की नाक के नीचे अवैध खनन को बड़ी ही आसानी से अंजाम दे रहे हैं। और जब बालू से भरे ट्रैक्टरों को भी मऊरानीपुर कोतवाली लाया जाता है तो खनन माफिया कोतवाली पहुंचकर बड़ी ही आसानी से छुड़ा ले जाते हैं। सूत्रों के अनुसार खनन माफियाओं से तहसील प्रशासन से लेकर खनिज विभाग एवं पुलिस प्रशासन को लाखों रुपए प्रतिमाह कि आय हैं। यही कारण है कि आज तक अवैध खनन को पूर्ण रुप से रोकने के लिए कोई भी कारगर कदम नहीं उठाया गया। इसी के चलते बुधवार की सुबह क्षेत्राधिकारी हिमांशु गौरव ने कोतवाली पुलिस के साथ मिलकर अवैध खनन के खिलाफ मुहिम चलाते हुए सितौरा घाट से अवैध बालू का खनन करते हुए एक ट्रैक्टर को पकड़कर कोतवाली लाया गया। और पुलिस क्षेत्राधिकारी के छापे की सूचना मिलते ही अन्य कई ट्रैक्टर मौके से भाग गए। फिलहाल नगर एवं क्षेत्र में हो रहे अवैध बालू खनन से जहां एक और स्थानीय अधिकारियों को लाखों रुपए की आए हो रही है तो वहीं दूसरी ओर सरकार को करोड़ों रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है।

 

 

रिपोर्ट- रवि परिहार

0

LEAVE A REPLY